केविन मिटनिक 


हेलो दोस्तों आज हम बात करने वाले हैं कैविन डेविड मिटनिक जो कि दुनिया के सबसे बड़े हैकर थे।माना जाता है यह बहुत ही बड़े हैकर हुए हैं । यह अमेरिका के मूल निवासी थे।

जन्म = 

          दोस्तों केविन मिटनिक का जन्म 6 अगस्त 1963 को लॉस एंजिलिस कैलिफोर्निया में हुआ था।


शुरूआती जीवन = 

12 साल की उम्र में मिटने की सोशल इंजीनियरिंग के द्वारा लॉस एंजेल्स की बसों में टिकट लेने के पंच कार्ड सिस्टम को मात दे दी। ऐसा तब हुआ जब एक स्नेही बस ड्राइवर ने उसे प्रेस करने वाली मशीन बेचने वाली दुकान का पता बताया और यह बताया कि वह कचरे में से खाली टिकट निकाल कर उनका इस्तेमाल करने में कहीं भी घूमने के लिए कर सकता है।केविन मिटनिक ने इन सोशल इंजीनियर को अपना हथियार बना लिया वह सोशल इंजीनियरिंग के जरिए नाम पासवर्ड फोन नंबर आदि को दिया लेता था और सोशल इंजीनियर उसका एक बहुत बड़ा हथियार बन गया।



पहली हैकिंग = 

                     केविन मिटनिक ने अपनी पहली कंप्यूटर हैकिंग 1979 ईस्वी में 16 साल की उम्र में की । जब उसके एक दोस्त ने उसे आर्क फोन नंबर दिए। यह कंप्यूटर सिस्टम था जिसका उपयोग डिजिटल इक्विपमेंट को परेशान अपने ऑपरेटिंग सिस्टम सॉफ्टवेयर को बनाने के लिए करता था कैबिनेट ने डीईसी के कंप्यूटर नेटवर्क को खोल लिया और डीईसी के कंप्यूटर सॉफ्टवेयर की नकल कर ले इस अपराध के लिए उन्हें 1988 में आरोपी और दोषी सिद्ध किया गया इस अपराध के लिए उन्हें 12 महीने की जेल की सजा और 3 साल तक निगरानी रखी गई।

जब उसका निगरानी का समय खत्म होने वाला था तब उसमें पेसिफिक मोबाइल नामक वॉइस मेल कंप्यूटर को हैक कर लिया |  गिरफ्तारी का वारंट निकल जाने पर मिटनिक भाग गया और अगले ढाई सालों तक उसने कई कंप्यूटर नेटवर्क को हैक किया । उसने अपने ठिकाने छुपाने के लिए क्लोन सेल फोन का  इस्तेमाल किया । अन्य चोरियों के साथ-साथ इसने देश के महंगे ट्रेडमार्क सॉफ्टवेयर की नकल करके चुरा लिया।




मिटनिक को फरवरी 1995 में उत्तरी कैरोलीना में गिरफ्तार कर लिया गया । उसके पास से कई सारे क्लोन फोन और 100 से ज्यादा क्लोन फ़ोन के पासवर्ड और कई सारे झूठे पहचान पत्र मिले।

1999 में मैटनिक ने चार टेलीग्राम समन्धित धोखे, 2 कंप्यूटर सम्बन्धित धोखे और एक टेलीग्राम कोम्युनिकेशन को  अवैधानिक तरीके से तोड़ने के मामले को स्वीकार किया। उसे 40 महीने जेल की सजा सुनाई गई । उसने बाद में यह कहा है कि उसके साथ दो और मुख्य हैकर थे।  उसे 21 जनवरी 2000 को जेल से रिहा किया गया और उसे सिर्फ लैंडलाइन इस्तेमाल करने की इजाजत थी बाद में Net यूज़ करने की इजाजत मिल गई।

Post a Comment

Previous Post Next Post